मंगलवार, 18 अगस्त 2009



उस पार जिया है मेरा
और बीच में सागर पूरा
किस तरह तुम्हें समझाऊं
की मिलना रहा अधूरा
कोई कश्ती नहीं किनारे
कोई भी साथ नहीं रे .
वो दूर देश जा बैठे
दे गीली आँखें क्यों रे
मैं कैसे ये संदेसा लहरों पे लिखती जाऊं
इस पार किनारे पर हूँ
उस पार कहाँ से आऊँ
वे प्रियतम मेरे मन के
मेरी साँसों के तन के
क्यों लग कर मेरे अंग से
मुझको तट तक ले पहुंचे
नीला सागर दिखलाकर
थपका कर गीत सुनाकर
मेरे होंठों से मोती चुग कर
कहाँ गए रे
मेरे गालों पर उनके
चुम्बन के दाग पड़े हैं
मेरी आँखें ढूँढ़ रहीं हैं
सागर के पार किनारे
की शायद कोई कश्ती आकर के लगे वहां रे
और प्रियतम मेरे मन के फिर कस लें उसी तड़प से
मैं लहर लहर जीती हूँ
पूरा सागर पीती हूँ
तुम कश्ती बनकर आना
ले चलना मुझे किनारे
तब मैं सागर में खोकर
सिकता से मोती होकर
खो जाउंगी तुममें ही
प्रियतम
तुम सी ही धोकर

11 टिप्‍पणियां:

  1. पिछली कविता से बिलकुल अलग पर दोनों अपने अपने तेवरों के साथ विशिष्ट.एक स्त्री सती-चौरा की आग भी दबाये रहती है और प्रेम के फूल की मादक गंध भी. एक उसकी नियति तो दूसरा उसका स्वभाव.
    ये कविता अपने ताजे-धुले-धुले से प्रतीकों के चलते,क्लीशे में कहूँ तो 'हटकर' है.

    उत्तर देंहटाएं
  2. फिर नदी अचानक सिहर उठी
    यह कौन छू गया साँझ ढले ,
    कैसे फूटा इसके जल में ;
    सरगम ,किसने संगीत रचा
    मिलना ,मुश्किल जिसका जग में
    कैसे इसमें वह गीत बचा ?
    वह नदी अचानक लहर उठी
    छू लिया किसी सुधि के पल ने .

    उत्तर देंहटाएं
  3. कितनी करुना कितने संदेश
    पथ में बिछ जाते बन पराग,
    गाता प्राणों का तार-तार
    अनुराग भरा उन्माद राग ;
    बहुत सुंदर सुंदर भाव है ,इस गीत में !

    उत्तर देंहटाएं
  4. इक बूँद सा होता है इक शब्द....
    इनसे बन जाता है सागर पूरा....!!
    इसका कोई मलाल मत करो तुम
    कि पूर्ण ही होता है प्रेम अधूरा...!!

    उत्तर देंहटाएं
  5. आपकी कविता पहली बार पढी और अच्छी लगी.

    उत्तर देंहटाएं
  6. मैं लहर लहर जीती हूँ
    पूरा सागर पीती हूँ
    तुम कश्ती बनकर आना
    ले चलना मुझे किनारे
    तब मैं सागर में खोकर
    सिकता से मोती होकर
    खो जाउंगी तुममें ही

    bahut sundar pragya...pichhli bhi kayi padhin...

    उत्तर देंहटाएं
  7. प्रज्ञा जी बहुत ही सुन्‍दर और भावप्रद कविता. मिलन की तड़फ को शव्‍दों में गहरे से उकेरा है आपने. बहुत बहुत आभार.

    उत्तर देंहटाएं
  8. प्रेम रस में ओ़त प्रोत बहुत खूबसूरत अभिव्यक्ति.
    आपकी रचनाओं के भाव अच्छे लगे.
    मेरे ब्लॉग पर आने का शुक्रिया.

    उत्तर देंहटाएं
  9. bahut umda pragya ji ..
    sabdon evam bhavon ka uttam mel.
    bhadhayi sweekaren.

    उत्तर देंहटाएं
  10. ek pyash jo kabhipori nahi ho sakti magar intjar me jee sakti hai udhe sakti hai.
    ye kavita padh kar laga jaise sargam ko ko ek frem miljata hai.

    rakesh

    उत्तर देंहटाएं