रविवार, 5 सितंबर 2010

एक मुकम्‍मल पूरा जंगल

पोर पोर तक
मेरे भीतर







महक रहा है
जंगल !




बेहिचक
छोड़कर
सभ्य
संस्कार
जो
कहते हैं

जियो,
सोचो,






बनाओ 
जगह
मुकम्मल !
रात का
दिनभर
करो
हिसाब!
ढलको जैसे ढलकता है
पहाड़ से
पत्थर !
कर के सब किनारे ...






मैं हो गयी हूँ पानी,
बन गयी हूँ झरना,
पहली किरण,
सबेरे की
लाली,
हवा की अदृश्य जंगली सुगंध ,
और समा गया है जंगल
मेरे भीतर!
जहाँ है घनेपन की सुवास !
मिट्टी
का
कंकडों
से
एकालाप!
वृक्षों
का भीतरी सघन फैलाव!








आकाश का
धरती से निरभ्र
भाव!




रोशनी
का
चाँद
तक
अविछिन्न
बहाव !
मैं हों गयी हूँ
स्व में स्थित
सुव्यवस्थित
और
पूरी,
जब से




तुम में आ कर मिली हूँ
मैं
हों गयी हूँ
एक मुकम्मल पूरा जंगल!!

24 टिप्‍पणियां:

  1. कुछ तकनीकी गड़बड़ के कारण पढ़ नहीं पा रहा हूँ..

    कृपया अपना ब्लॉग जांच लें.....

    उत्तर देंहटाएं
  2. मैं हों गयी हूँ पानी
    बन गयी हूँ झरना
    पहली किरण
    सबेरे की
    लाली,
    ..........
    खूबसूरत विम्ब ...!!! रूपांतरित हो जाने की कथा पूरी । बधाई

    उत्तर देंहटाएं
  3. aek jngl or uski prstuti shaandaar prstuti bs akshr thode or saaf hote to mzaa aa jata. akhtar khan akela kota rajsthan

    उत्तर देंहटाएं
  4. आपकी कविताओं में जो गहरा आत्‍मीयता का स्‍पर्श और समर्पण का भाव होता है, वह लाजवाब है। यह रूमानियत जब प्रकृति के साथ एकाकार होता है तो गहरे अर्थ और बिंबों से कविता बहुआयामी रूप ले लेती है। यह ऐसी ही सुंदर रचना है। बधाई।

    उत्तर देंहटाएं
  5. नए बिम्बों के साथ अपने मन के भावों को प्रस्तुत किया है ...खूबसूरत अभिव्यक्ति

    उत्तर देंहटाएं
  6. मन की पर्तों में छिपे भावों को करीने से सजाया है।

    उत्तर देंहटाएं
  7. बहुत सुन्दर रचना,
    तथाकथित और थोपी हुई
    सभ्यता से थक कर ,ऊब कर ,
    उसके संकरे रास्ते से निकलने की
    इच्छा का मानसिक प्रतिबिम्बन ,
    सुन्दर शब्दों में !
    बहुत बधाई!

    उत्तर देंहटाएं
  8. और समा गया है जंगल
    मेरे भीतर!
    जहाँ है घनेपन की सुवास !
    मिट्टी का
    और
    जब से

    तुम में आ कर मिली हूँ
    मैं
    हों गयी हूँ
    एक मुकम्मल पूरा जंगल
    दिल को छू गयी आपकी ये पँक्तियाँ। शुभकामनायें

    उत्तर देंहटाएं
  9. नये बिम्बो के साथ बेहतरीन चित्रण्।

    उत्तर देंहटाएं
  10. man jab sahaj dhang se apni baat kah jaaye , kavita vahan swayam astitva mein aa jati hai.mujhe sahajta achhi lagi.
    krishnabihari

    उत्तर देंहटाएं
  11. खूबसूरत अभिव्यक्ति के साथ बहुत अच्छी लगी यह रचना...

    उत्तर देंहटाएं
  12. दो दिन से कोशिश कर रही थी आपकी इस रचना को पढ़ने की लेकिन ना जाने क्यों ओपन ही नहीं होती थी. बहुत दिनों बाद लिखा आपने लेकिन मुकम्मल बिम्बो से परिपूर्ण और बेहतरीन लिखा.

    बधाई.

    उत्तर देंहटाएं
  13. तुम में आ कर मिली हूँ
    मैं
    हों गयी हूँ
    एक मुकम्मल पूरा जंगल!!!!!!!!!!
    बहुत सुंदर बात कही प्रज्ञा !क्योंकि जंगल की आंतरिक व्यवस्था और सुरक्षा में मनमानापन नहीं है ! और यही इस कविता की जान है ! अनंत शुभकामनायें !

    उत्तर देंहटाएं
  14. Kya baat hai aapki kavita mey ,ghazab ke bimb ukerey hai aapney,I am really impressed with the imagination that you put in your poem,marvellous.
    with best wishes,
    dr.bhoopendra
    jeevansandarbh.blogspot.com

    उत्तर देंहटाएं
  15. bahut hi behtareen rachna..
    yun hi likhte rahein..
    ----------------------------------
    मेरे ब्लॉग पर इस मौसम में भी पतझड़ ..
    जरूर आएँ..

    उत्तर देंहटाएं
  16. तुम में आ कर मिली हूँ
    मैं
    हों गयी हूँ
    एक मुकम्मल पूरा जंगल ...

    दिल के अंधेरे से अक्सर ज़ज्बात जंगल हो जाते हैं ....
    बहुत गहरे भाव हैं इस रचना में ....

    उत्तर देंहटाएं
  17. मुकम्मल का मतलब ही पूरा होता है ।

    उत्तर देंहटाएं
  18. सुन्दर अल्फाज और बेहतरीन भाव की रचना

    उत्तर देंहटाएं
  19. सही बात है शरद जी शुक्रिया !मगर कविता के लिए कुछ नहीं कहा आपने !

    उत्तर देंहटाएं
  20. बहुत सुन्दर बिम्ब ... अद्भुत रचना !

    उत्तर देंहटाएं
  21. लेखन के लिये “उम्र कैदी” की ओर से शुभकामनाएँ।

    जीवन तो इंसान ही नहीं, बल्कि सभी जीव जीते हैं, लेकिन इस समाज में व्याप्त भ्रष्टाचार, मनमानी और भेदभावपूर्ण व्यवस्था के चलते कुछ लोगों के लिये मानव जीवन ही अभिशाप बन जाता है। अपना घर जेल से भी बुरी जगह बन जाता है। जिसके चलते अनेक लोग मजबूर होकर अपराधी भी बन जाते है। मैंने ऐसे लोगों को अपराधी बनते देखा है। मैंने अपराधी नहीं बनने का मार्ग चुना। मेरा निर्णय कितना सही या गलत था, ये तो पाठकों को तय करना है, लेकिन जो कुछ मैं पिछले तीन दशक से आज तक झेलता रहा हूँ, सह रहा हूँ और सहते रहने को विवश हूँ। उसके लिए कौन जिम्मेदार है? यह आप अर्थात समाज को तय करना है!

    मैं यह जरूर जनता हूँ कि जब तक मुझ जैसे परिस्थितियों में फंसे समस्याग्रस्त लोगों को समाज के लोग अपने हाल पर छोडकर आगे बढते जायेंगे, समाज के हालात लगातार बिगडते ही जायेंगे। बल्कि हालात बिगडते जाने का यह भी एक बडा कारण है।

    भगवान ना करे, लेकिन कल को आप या आपका कोई भी इस प्रकार के षडयन्त्र का कभी भी शिकार हो सकता है!

    अत: यदि आपके पास केवल कुछ मिनट का समय हो तो कृपया मुझ "उम्र-कैदी" का निम्न ब्लॉग पढने का कष्ट करें हो सकता है कि आपके अनुभवों/विचारों से मुझे कोई दिशा मिल जाये या मेरा जीवन संघर्ष आपके या अन्य किसी के काम आ जाये! लेकिन मुझे दया या रहम या दिखावटी सहानुभूति की जरूरत नहीं है।

    थोड़े से ज्ञान के आधार पर, यह ब्लॉग मैं खुद लिख रहा हूँ, इसे और अच्छा बनाने के लिए तथा अधिकतम पाठकों तक पहुँचाने के लिए तकनीकी जानकारी प्रदान करने वालों का आभारी रहूँगा।

    http://umraquaidi.blogspot.com/

    उक्त ब्लॉग पर आपकी एक सार्थक व मार्गदर्शक टिप्पणी की उम्मीद के साथ-आपका शुभचिन्तक
    “उम्र कैदी”

    उत्तर देंहटाएं